Wednesday, 7 November 2012

चमत्कार होते हैं

चमत्कार होते हैं

हमारे जीवन में जो घटनाएं अप्रत्याशित घटती हैं तथा जिनके परिणाम पूर्णतः सुखद होते हैं, वे चमत्कार कहलाती हैं। कुछ लोग इसे संयोग कहते हैं परन्तु यह संयोग से आगे की स्थिति है। पूर्णतः दुखद परिणाम वाली अप्रत्याशित घटनाएं हादसा के नाम से जानी जाती हैं। हादसा दुर्योग से आगे की स्थिति है।

मेरे जीवन में कई संयोग बने और कई चमत्कार घटित हुए। आज तक मैं अपने साथ होने वाली चमत्कारिक घटनाओं को देख कर अचंभित हूँ कि आखिर मुझे यह सब कैसे मिला। मैं हैरान हूँ कि जो सपने मैंने कभी नहीं देखे, जिन सुखो, सहूलियतों की मैंने कभी चाहना नहीं की, जो अदृश्य एवं अतिरिक्त ख़ुशी पाने के लिए मैंने कभी प्रयास नहीं किया, वह सब अचानक जैसे ऊपर से टपका।

मेरे साथ कोई हादसा कभी नहीं हुआ बल्कि कई हादसे होने से टले। यदि वो हादसे स्वतः न टलते और मेरी ज़िन्दगी में कहर ढाते तो दुर्भाग्य के वशीभूत कुछ भी अनहोना हो सकता था। मेरे प्रयास के बिना मेरी रक्षा हुई।

मैं पहले भगवान् को नहीं मानती थी। लेकिन अपने जीवन की घटनाओं को देख कर मुझे यह विश्वास हुआ कि कोई अनदेखी, असीम शक्ति है जो हमारे जाने बिना हमारे जीवन की गति को संचालित करती है और मैं उस असीम शक्ति की फेवरेट चाइल्ड हूँ।

मैं उन अर्थों में धार्मिक नहीं हूँ कि मंदिर जाऊं, पूजापाठ करूँ। धर्म के कर्मकांडी स्वरुप में मेरा कोई विश्वास नहीं। 

मैं मन ही मन उस असीम शक्ति के प्रति नतमस्तक और श्रद्धावनत हूँ।

प्रभु ! मेरा ख्याल ऐसे ही रखना। और मेरे अपनों का भी।


1 comment:

  1. मैं पहले भगवान् को नहीं मानती थी। लेकिन अपने जीवन की घटनाओं को देख कर मुझे यह विश्वास हुआ कि कोई अनदेखी, असीम शक्ति है जो हमारे जाने बिना हमारे जीवन की गति को संचालित करती है और मैं उस असीम शक्ति की फेवरेट चाइल्ड हूँ।

    ReplyDelete