Tuesday, 26 February 2013

अपराध

अपराध

दिल में जो गहरे तक उतर गया
उसे लौटाया नहीं जा सकता
मारा जा सकता है।
हत्या का यह अपराध
करना ही पड़ेगा
वरना दिल में उतरा हुआ वह
न वापस जाएगा
न मुझे जिन्दा रहने देगा।

No comments:

Post a Comment