Tuesday, 6 August 2013

छोटी कविता : 11

छोटी कविता : 11

दुःख जीवन का एक मूल्य है
दुःख ने तराशा है मुझे
दुःख ने मुझे ऊंचाई दी
दुःख ने मुझे सब से जोड़ा
दुःख ने प्रेम में मरना सिखाया
दुःख ने हँस-हँस के जीना सिखाया
दुःख को चुन-चुन कर अपने ह्रदय में बसाया है मैंने।

No comments:

Post a Comment