Friday, 6 September 2013

छोटी कविता : 16

छोटी कविता

मुरझाती हुई शाखों
और शाख से टूटे पत्तों को दोष मत दो.
वृक्ष की जड़ों में देखो
कितना विष भरा है तुमने।
तुम्हें पेड़-पौधों को सींचने की कला
सीखनी होगी।
फूलों के बिना जीना भी क्या जीना।

2 comments: