Thursday, 3 April 2014

मैं हूँ Kavita 188

मैं हूँ

मैं हूँ
क्योंकि तुमने सोचा, मैं हूँ.

मैं हूँ
क्योंकि तुमने चाहा, मैं हूँ.

मैं हूँ
क्योंकि तुमने जाना, मैं हूँ.

तुम न होते
तो मैं अब कहाँ होती?

तुम नहीं थे
तो मैं तब कहाँ थी?

तुम नहीं होंगे
तो मैं तब कहाँ होंगी?

तुम्हारे होने में मेरा होना
तुम्हारे न होने में मेरा न होना.

No comments:

Post a Comment