Sunday, 31 August 2014

छोटी कविता 20

छोटी कविता 20

भीतर खामोशी इतनी बढ़ी
कि बाहर
शब्दों का सैलाब उमड़ आया।
यूँ मैं
बची मौन के आघात से।

No comments:

Post a Comment