Tuesday, 25 November 2014

स्मृति ईरानी

स्मृति ईरानी

कई लोग भाग्य को नहीं मानते। हर अप्रत्याशित होने वाले काम को संयोग की संज्ञा दे देते हैं. लेकिन भाग्य होता है, इसे अनेक व्यक्तियों के जीवन में देखा जा सकता है. मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी के बारे में मैंने पहले लिखा था कि वे बहुत कम शिक्षा पाकर भी इतने उच्च पद पर पहुँची, यह उनके भाग्य का ही कमाल था. स्मृति ईरानी 'सास भी कभी बहु थी' धारावाहिक से प्रकाश में आईं, परदे पर उनका सकारात्मक चरित्र हमारे दिलों में उनकी प्रशंसनीय स्वच्छ छवि बना गया. अपनी अभिनय कला प्रदर्शन के दौरान उन्होंने एक साक्षात्कार में बताया था कि जब वे टीनेजर (किशोरी) थीं, तब वे घर से भाग गई थीं (अब पता नहीं, वे इस बात को स्वीकार करेंगी या नहीं?). बहरहाल, उन्होंने अपने से बहुत बड़ी उम्र के, तलाकशुदा एक पारसी व्यक्ति से शादी की, जिसकी तलाक दी गई पत्नी से स्मृति के अच्छे सम्बन्ध रहे, यानि इससे ज़ाहिर होता है, स्मृति एक भले दिल की महिला हैं. (आज चाहे वे कहें कि मीडिया को उनके व्यक्तिगत जीवन में झाँकने की ज़रूरत नहीं है, लेकिन अभिनय-अवधि के दौरान उन्होंने खुद अपने इस व्यक्तिगत जीवन में झंकवाया था). मेरा इरादा यहाँ उनके विपक्ष में कुछ कहने का नहीं है क्योंकि मैं हर उस शख्स को पसंद करती हूँ जिसके जीवन में अप्रत्याशित घटनाएँ घटती हैं, जो अपनी मेहनत से तो सफल होता ही है, भाग्य के चमत्कार से भी सफलता को प्राप्त करता है. स्मृति को उनके अभिनय के दौरान ही एक ज्योतिषी ने बताया था कि वे उच्च सरकारी पद को प्राप्त करेंगी। आज वे शनि की साढ़ेसाती को शांत करवाने के लिए हवन-पूजन करवा रही हैं. उन्हें उनके ज्योतिषी ने यह भी अवश्य बताया होगा कि शनि की साढ़ेसाती अपनी साढ़े सात साल की अवधि में परेशान ज़रूर करती है लेकिन अंत में अच्छा फल देकर जाती है. मुख्य बात जो मैं कहना चाहती हूँ, वह यह कि स्मृति को ज्योतिषी द्वारा यह बताया गया है कि वे एक दिन देश के सर्वोच्च पद पर आसीन होंगी यानि राष्ट्रपति बनेंगी। मैं विश्वास करती हूँ, यदि उनके सितारों में यह लिखा है, तो अवश्य होगा और इसी को कहते हैं चमत्कार। आप कहाँ थे, और कहाँ पहुंचे। अगर ऐसा होता है तो मुझे बहुत ख़ुशी होगी।


No comments:

Post a Comment