Saturday, 17 January 2015

गौतम बुद्ध

गौतम बुद्ध

गौतम बुद्ध के बारे में अक्सर यह कहा जाता है कि उन्होंने अपना पति-धर्म नहीं निभाया और पत्नी को अकेला छोड़ कर चले गए. इस बात को मैंने इस तरह सोचा कि क्या पत्नी धर्म ही एकमात्र धर्म है जिसे व्यक्ति अपनी हर इच्छा की आहुति देकर निभाए? क्या व्यक्ति के जीवन में पत्नी से बड़ा कोई अन्य उद्देश्य नहीं हो सकता?

जब गौतम बुद्ध ने सुख साधनों का परित्याग किया, तब उनका उद्देश्य महात्मा बनना नहीं था. उन्हें तब मालूम भी नहीं था कि उस समय का किशोर-युवा सिद्धार्थ भविष्य में महात्मा की उपाधि से नवाज़ा जाएगा। वह एक आरामपरस्त राजकुमारों वाला जीवन जी रहे थे. कल आपके जीवन में क्या होगा, आप आज उसके बारे में क्या कह सकते हैं? क्या उन्हें अपने राजसी ठाठबाट छोड़ते हुए कोई तकलीफ नहीं हुई होगी? क्या भिक्षा में मिला भोजन उनके शाही भोजन जैसा ही स्वादिष्ट रहा होगा, जिसे खाते हुए उनके मन में घर छोड़ने का कभी कोई मलाल आया होगा? क्या ज़मीन में पत्थरों पर सर्दी, गर्मी, बरसात की मार सहते हुए उन्होंने कभी पछतावा किया होगा कि राजसी आरामयुक्त जीवन का त्याग करके उन्होंने कोई गलती की है? क्या ऐश्वर्ययुक्त जीवन छोड़ कर संन्यास लेने का निर्णय इतना सरल होता है कि कोई भी ले ले?

जो व्यक्ति हँसी-ख़ुशी शादी करता है या उस ज़माने में कम उम्र में कर दी जाती है, जिसमें बच्चों से उनकी राय पूछने को कोई महत्व नहीं दिया जाता, तो ऐसे में, (या कैसे में भी), कल को आपको जीवन से ही विरक्ति हो जाए तो आप क्या करेंगे? भविष्य पर अपना नियंत्रण नहीं होता। मन की बदलती स्थितियों पर भी अपना नियंत्रण नहीं होता। जो अज्ञानी जन गौतम को पत्नी के प्रति गैर-ज़िम्मेदार कहते हैं, वे बताएँ कि क्या गौतम बुद्ध का उद्देश्य पत्नी को अहाने-बहाने छोड़ कर, अपनी गृहस्थी से मुक्ति पा कर अन्यत्र ऐयाशी करना था? गौतम बुद्ध ने इसलिए तो पत्नी को नहीं छोड़ा था कि उनका मन उनकी पत्नी यशोधरा से ऊब गया था? कि वे कोई दूसरी पत्नी करने जा रहे थे? उनकी टूटन का अनुमान लगाइए, उन्होंने एक भिक्षुओं वाला जीवन जिया, जबकि उनकी पत्नी यशोधरा पूरे सम्मान और सुख-सुविधाओं के साथ महल में रहती रही. उन्होंने यशोधरा से यह तो नहीं कहा कि तुम भी महलों के सुख छोड़ कर मेरे साथ सत्य की खोज में चलो. विवाह, पति-पत्नी धर्म जीवन के वृहत्तर धर्म नहीं हैं कि इनसे ऊपर कुछ नहीं है. इनसे ऊपर है, व्यक्ति का अपना मन, सुसंस्कारी मन, जो यदि एक वृहत्तर लक्ष्य के लिए तड़पता है तो उसे उस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए भटकने में सांसारिक सुखों का परित्याग करना ही होता है, यह बात दूसरी है कि उसके साथ जुड़े अन्य रिश्ते भी प्रभावित होते हैं.

गौतम बुद्ध की कहानी अद्भुत है. (लेकिन यशोधरा ने भी सिद्धार्थ के मानसिक कष्टों को समझ कर हालात के साथ समझौता किया, सारी शिकायतों के बावजूद अपने पुत्र राहुल को पालपोस कर बड़ा किया और एक दिन पति की भिक्षा में उन्हें उनका पुत्र ही दे दिया, यह कहानी भी अद्भुत है.) मुझे गौतम बुद्ध और यशोधरा, दोनों के सन्दर्भ प्रभावित करते हैं.


No comments:

Post a Comment