Saturday, 17 January 2015

नरेंद्र मोदी

नरेंद्र मोदी

नरेंद्र मोदी का जीवन मुझे गौतम बुद्ध के जीवन से मिलता-जुलता लगता है. बस, कालान्तर में लक्ष्य का अर्थ बदल गया. मैं गौतम बुद्ध पर अभी लिखी अपनी उसी पोस्ट के सारे शब्द यहाँ नरेंद्र मोदी के लिए लिख सकती हूँ. मोदी जी के बारे में भी कहा जाता है कि उन्होंने पति-धर्म नहीं निभाया। यदि सत्रह साल की उम्र में किसी बच्चे की शादी कर दी जाए, (हाँ, लड़का सत्रह साल की उम्र में बच्चा ही होता है, उसमें उस उम्र में विवाह को समझने जैसी प्रौढ़ता नहीं आई होती), और विवाह के बाद उसमे वैराग्य पैदा हो जाए तो आप क्या कर सकते हैं? कल आपके जीवन में क्या होगा, आप आज उसके बारे में क्या कह सकते हैं? क्या सामान्य जीवन के लोभ छोड़ कर दुनिया से, घर गृहस्थी से विलग रहने का निर्णय इतना सरल होता है कि कोई भी ले ले? जो व्यक्ति हँसी-ख़ुशी शादी करता है या उस ज़माने में कम उम्र में कर दी जाती है, जिसमें बच्चों से उनकी राय पूछने को कोई महत्व नहीं दिया जाता, तो ऐसे में, (या कैसे में भी), कल को आपको जीवन से ही विरक्ति हो जाए तो आप क्या करेंगे? भविष्य पर अपना नियंत्रण नहीं होता। मन की बदलती स्थितियों पर भी अपना नियंत्रण नहीं होता। जो अज्ञानी जन मोदी जी को पत्नी के प्रति गैर-ज़िम्मेदार कहते हैं, वे बताएँ कि क्या मोदी जी का उद्देश्य पत्नी को अहाने-बहाने छोड़ कर, अपनी गृहस्थी से मुक्ति पा कर अन्यत्र ऐयाशी करना था? उन्होंने इसलिए तो पत्नी को नहीं छोड़ा था कि उनका मन उनकी पत्नी से ऊब गया था? कि वे कोई दूसरी पत्नी करने जा रहे थे? उन्होंने पत्नी के जीवन में कोई अड़ंगा तो नहीं लगाया। फिर उनका सौभाग्य कि उन्हें अपनी पत्नी का मूक सहयोग मिला। विवाह, पति-पत्नी धर्म जीवन के वृहत्तर धर्म नहीं हैं कि इनसे ऊपर कुछ नहीं है. इनसे ऊपर है, व्यक्ति का अपना मन, सुसंस्कारी मन, जो यदि एक वृहत्तर लक्ष्य के लिए तड़पता है तो उसे उस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए भटकने में सांसारिक सुखों का परित्याग करना ही होता है, यह बात दूसरी है कि उसके साथ जुड़े अन्य रिश्ते भी प्रभावित होते हैं. नरेंद्र मोदी में मुझे सच्चे साधु-संतों वाली गरिमा नज़र आती है. मैंने कहा था ना कि मैं वही शब्द नरेंद्र मोदी के लिए भी लिख सकती हूँ जो मैंने गौतम बुद्ध के लिए लिखे।


No comments:

Post a Comment