Thursday, 14 May 2015

Bhumika Dwivedi के नाम खुला पत्र

Bhumika Dwivedi के नाम खुला पत्र

भूमिका, चाहे तुम बुरा मानो, पर मैं स्पष्ट कहूँगी कि बूढ़े पुरुषों की लोलुप मानसिकता पर लिखी तुम्हारी कविता एकदम घटिया है, भाव की दृष्टि से तो घटिया है ही, शिल्प की दृष्टि से भी इसमें कोई दम नहीं है. वस्तुतः यह कविता है ही नहीं, किसी पर गुस्से में निकले उदगार हैं. साहित्य के किसी कोने में उस रचना को स्थान नहीं मिल सकता जो मन की भड़ास निकालने के लिए, किसी को बदनाम करने के लिए रची जाए. जो लोग प्रशंसा के पुल बाँध रहे हैं, वे तुम्हारे मज़े ले रहे हैं. एक शेयर करने वाले मित्र ने तुम्हारे व्यक्तिगत जीवन के बारे में अपनी टिप्पणी लिखी है. एक युवा लड़के ने तुम्हारी कविता शेयर की है जिसके शब्दों में 55 साल का आदमी बुड्ढा है. जब आप 20 के होते हैं तो आपको 30-40 साल के लोग भी बुड्ढे लगते हैं. वैसे एक उम्र पर आदमी बुड्ढा हो ही जाता है, सबके साथ है, हाँ, उस उम्र में भी यदि वह किसी युवा लड़की को भी शारीरिक, मानसिक और आर्थिक रूप से संतुष्ट करने में सक्षम है, तो वह कहाँ से बुड्ढा है? हाँ, कई रसलोलुप होते हैं लेकिन बहुत बड़ी उम्र का पुरुष, जैसा कि तुमने दर्शाया है, किसी भी लड़की से ज़बरदस्ती कुछ नहीं कर सकता, बलात्कार तो बिलकुल नहीं। लड़की स्वयं अपनी ख़ुशी से उससे अपना उपभोग करवाए तो करवाए. अब मैं तुम्हारे सामने उन कमउम्र, कमसिन, मृगनयनी, कामिनियों (नहीं, कमीनियों) की सचाई के बारे में बताती हूँ जो ऐसे पुरुषों को भी नहीं छोड़ती, जिनके लिए ऐसे पुरुष ईज़ी टारगेट होते हैं. मैं स्वयं महिला होते हुए ऐसा कह रही हूँ क्योंकि यह एक सचाई है और मैं हमेशा सच के पक्ष में होती हूँ. लेखक सलमान रूश्दी के साथ कमउम्र लड़कियों ने स्वयं आगे बढ़ कर शादी की. चित्रकार पिकासो के साथ उनकी 61 वर्ष की आयु में एक 21 वर्ष की नवयुवती ने उनसे प्रेम विवाह किया। इंग्लिश मैगज़ीन Playboy के मालिक, जिनकी उम्र 80 वर्ष के लगभग थी, के साथ एक बहुत छोटी उम्र की लड़की शादी करने के लिए तत्पर थी. इन कतिपय सुप्रसिद्ध नामों के सिवा इस समाज में बहुत से ऐसे मामले देखने को मिल जाएँगे। कुछ कमसिन लड़कियाँ सचमुच उम्रदराज़ पुरुषों के प्रेम में पड़ जाती हैं, कारण कई हो सकते हैं, फादर फिगर के प्रति उनका आकर्षण, उम्रदराज़ पुरुष के पैसे और रुतबे के प्रति आकर्षण, कुछ यह भी कि जल्दी मर जाएगा और हमें सब कुछ मिल जाएगा, लड़कियों का आर्थिक रूप से ज़रूरतमंद होना, पुरुष की हैसियत और रुतबे के सहारे खुद ऊपर उठना, लड़कियों की आगे बढ़ने की महत्वाकांक्षा जो उनके हमउम्र संघर्षरत लड़के के द्वारा पूरी नहीं की जा सकती, आदि कई कारण होते हैं जो लड़कियों को बड़ी उम्र के पुरुष की और आकर्षित करते हैं. मैत्रेयी पुष्पा ने पोस्ट पर कमेंट किया था, कि लड़कियाँ कंगाल बुड्ढों को क्यों नहीं चुनतीं, तो वह कमेंट हटा दिया गया। सोचने वाली बात है कि आज तक किसी कमसिन लड़की ने किसी ज़रूरतमंद कंगाल बुड्ढे का हाथ नहीं थामा। (And mind you, it is vice versa. पर वह फिर कभी.)


No comments:

Post a Comment