Monday, 18 May 2015

Feeling proud to be ME. (खुद पर नाज़ करते हुए)

Feeling proud to be ME. (खुद पर नाज़ करते हुए)

Let me announce my independence. I am my own boss. I decide my own things. I take my own decisions. I am a senior citizen. I had been a cancer patient. Still I am earning my own livelihood even today. I have earned my own house. I have earned my own car. I have fullfilled my responsibilities pretty well. I choose my own friends. I choose my own way of life. Still I do not do any wrong thing. I do not harm and hurt any body. I do not quarrel with any body. Though I do not live as per the norms of the conservative society, I am a liberated person, still I am praised by the society. My conscience is clear and sharp. I am up to the mark and on equal level with my next generations. I have earned love and good faith of those who are connected with me. I am I. I am ME. People should feel happy, at least one woman is liberated.

मैं अपने स्वतंत्र होने की घोषणा करती हूँ. मैं अपनी बॉस खुद हूँ. मैं अपनी चीज़ें खुद चुनती हूँ. मैं अपने निर्णय खुद करती हूँ. मैं एक सीनियर सिटिज़न हूँ. मैं एक कैंसर पेशेंट रह चुकी हूँ. इतने पर भी मैं आज भी अपनी रोज़ी-रोटी खुद कमा रही हूँ. मैंने अपना मकान कमाया है. मैंने अपनी कार कमाई है. मैंने अपनी ज़िम्मेदारियों को बहुत बढ़िया तरह निभाया है. मैं अपने मित्र स्वयं चुनती हूँ. मैं अपनी तरह से जीवन जीती हूँ. तब भी मैं कुछ गलत नहीं करती। मैं किसी का दिल नहीं दुखाती, न ही किसी को नुकसान पहुँचाती हूँ. मैं किसी से लड़ाई नहीं करती। यद्यपि मैं दकियानूसी समाज के कायदों-कानूनों पर नहीं चलती और एक आज़ाद जीवन जीती हूँ, तथापि मैं समाज द्वारा पूर्ण सम्मानित हूँ. मेरा अंतर्मन साफ़ और दुरुस्त है. मैं नए ज़माने के साथ हूँ और अपनी अगली पीढ़ी के साथ समान स्तर पर जीती हूँ, मैंने अपने से जुड़े हुए लोगों का प्रेम और विश्वास अर्जित किया है. मैं 'मैं' हूँ. मैं 'मैं' ही हूँ. लोगों को इस बात के लिए खुश होना चाहिए कि कम से कम एक महिला तो आज़ाद है.

No comments:

Post a Comment