Sunday, 26 July 2015

मस्ती में Kavita 238

मस्ती में

बहुत व्यस्त हूँ
फिर भी मस्त हूँ.

भीतर से त्रस्त हूँ
फिर भी मस्त हूँ.

अँधेरों की अभ्यस्त हूँ
फिर भी मस्त हूँ.

आलसपरस्त हूँ
फिर भी मस्त हूँ.

दुविधाग्रस्त हूँ
फिर भी मस्त हूँ.

जीने को अभिशप्त हूँ
फिर भी मस्त हूँ.

किसने कहा, पस्त हूँ?
मैं तो मस्त हूँ.

No comments:

Post a Comment