Tuesday, 27 September 2016

Two Liner

Two Liner

1.
मेंरे मरने के बाद भी मेरी आँखेँ खुली रहीं
न जाने किस खुशी का इंतज़ार था तमाम उम्र?

2.
मेरी कब्र को दो गज़ ज़मीन से ज़्यादा जगह देना
मुझे बेचैनी में करवटें बदलने की आदत है.

1 comment: